एनटीपीसी ब्वॉयलर ब्लास्ट की जांच के लिए कमेटी गठित, मृतकों के परिजनों 20 लाख, घायलों को 10 लाख का मुआवज़ा : आरके सिंह

(आकाश आनंन्द )

केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह ने आज उत्तरप्रदेश के रायबरेली के ऊच्चाहार में एनटीपीसी के पॉवर प्लांट का दौरा किया. कल इस पॉवर प्लांट में ब्यॉयलर फट जाने के कारण अबतक 30 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि दर्जनों लोग गंभीर हैं. आज ऊंचाहार पहुंचे आरके सिंह ने उत्तर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा के साथ घटना स्थल का निरीक्षण किया केंद्रीय ऊर्जा मंत्री ने आज घटना स्थल का जायजा लेने के बाद कहा कि ब्लास्ट के कारणों की जांच के लिए एक कमेटी का गठन किया गया है और उसके आधार पर आवश्यक रक्षात्मक कदम उठाये जायेंगे, ताकि भविष्य में ऐसा नहीं हो.

एनडीआरएफ की टीम कल शाम हादसे के बाद से अब तक राहत कार्य में जुटी है। गंभीर रूप से घायल व्यक्तियों को लखनऊ और कुछ लोगों को स्पेशल एयरक्राफ्ट से दिल्ली एम्स भेजा गया है। बाकियों का इलाज रायबरेली में चल रहा है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पीड़ितों से मिलने अस्पताल पहुंचे और उनका हालचाल लिया। उसके बाद एनटीपीसी में केंद्रीय मंत्री आर के सिंह से मिले।

केंद्रीय ऊर्जा मंत्री ने कहा कि इस दुर्घटना में मृतक के परिवार को केंद्र सरकार ने 20-20 लाख रुपए की आर्थिक मदद देने का ऐलान किया है। हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को केंद्र सरकार की तरफ से 20-20 लाख रुपए की आर्थिक मदद दी जाएगी। वहीं घायलों को 10-10 लाख रुपए मुआवजा दिया जाएगा। मामूली रूप से घायल लोगों को 2-2 लाख रुपए दिए जाएंगे।

इससे पहले उत्तरप्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने भी पीड़ितों के लिए मुआवजे का एलान किया था. राज्य सरकार ने कहा था कि मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये, गंभीर रूप से घायलों को 50-50 हजार रुपये एवं कम गंभीर घायलों को 25-25 हजार रुपये दिये जायेंगे.

एनटीपीसी ने भी मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख रुपए की आर्थिक मदद देने का ऐलान किया। एनटीपीसी के आंचलिक प्रशासनिक अधिकारी आरएस राठी के अनुसार, मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख की आर्थिक मदद दी जाएगी। वहीं घायलों को 2-2 लाख रुपए की आर्थिक मदद दी जएगी। इसके साथ ही मृतक के परिवार को हम प्रधानमंत्री सहायता कोष से दो-दो लाख दिया जाएगा.

घटना के बाद करीब पांच घंटे तक छटपटा रहे मजदूरों को उपचार के लिए सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है।सिविल अस्पताल के निदेशक डाक्टर हिम्मत सिंह दानू के मुताबिक हादसे के बाद यहां गुरुवार की सुबह तक कुल 30 झुलसे मजदूर पहुंचे।इनमें 1 मजदूर कमलेश कुमार की मौत अस्पताल पहुंचने से पहले ही हो गई थी। देर रात उपचार के दौरान अस्पताल में भर्ती मजदूर गया बिहार के चंदन कुमार, ऊंचाहार के रामरतन,वीरेंद्र, अरविंद व छोटेलाल की मौत हो गई।

Please follow and like us:
error

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Facebook
Twitter
YouTube
Follow by Email