महिला को पीटने के मामले में पुलिस शक के घेरे में…!तड़ीपार का मामला रद्द करने के लिए रिश्वत दी गई थी..!

अंबरनाथ :तड़ीपार का मामला रद्द करने के लिए पुलिस वाले को दिए गए 12 हजार रुपए के बावजूद भी पति का तड़ीपार करने का मामला रद्द नहीं किया गया ,जिसके चलते दिए हुए १२ हजार रूपये पत्नी द्वारा वापस मांगने जाने पर 3 पुलिसवालों ने मिलकर महिला की उसके घर में घुसकर पीटे जाने का आरोप पत्नी ने लगाया . महिला को पीटे के मामले में कुछ बातो में पुलिस शक के घेरे में आई है.

शरीफ जो कि अपना जीवनयापन करने के लिए चायनिज की गाडी चलाता था . उस पर पुलिस ठाणे में चोरी चकारी के चार मामले दर्ज है . इसी मामले में शरीफ पर तडीपार करने की कारवाई क्राइम ब्रांच एक पुलिस वाले पर सौपी गयी थी . तड़ी पार के मामले को रद्द करने के लिए शरीफ की पत्नी ने अंबरनाथ पुलिस स्टेशन के क्राइम ब्रांच में कार्यरत सेसवानी नामक पुलिस को 12 हजार रुपये की रिश्वत दी थी . पैसे देने के बाद भी जब पाच दिन पहले शरीफ पर तडीपार की कारवाई पूरी करके उसे गिरफ्तार भी किया गया .वहा से छुटने के बाद सरीफ पूना चला गया .जब शरीफ को तडीपार कार ही दिया गया हो तो  शरीफ की पत्नी आयेशा पुलिस वाला सेसवानी को दिए पैसे वापस मांगने लगी . उसी बात से गुस्साए सेसवानी, कुंभार, राणे नामक तीन पुलिसकर्मी ने मंगलवार की रात में आयेशा के  भगतसिंग नगर स्थित घर में जबजस्ती घुसे और बोले. शरीफ किधर है , ऐसा पूछते हुए ये तीनो ने आयेशा को बेरहमी से पीटना शुरू कर दिया . आयेशा जो कि पहले से ही एक टीबी की पेशेंट वह नीचे जमीन पर गिर गई. और उसके नाक व मुँह से खून आने लगा. इतने में पड़ोस में ही रह रही आयशा की माँ रईसा सैय्यद उसे बचाने के लिए आ गयी . पुलिस वाले ने उसकी माँ की भी पिटाई कर दी . ऐसा आयेशा और उसकी माँ ने बताया है . पुलिस के जाने के बाद घायल आयेशा को मध्यवर्ती अस्पताल में इलाज के लिए लाया गया. जहा उसका अभी इलाज चल रहा है. जब आयेशा और उसकी माँ के द्वारा लगाए गए आरोप पर अंबरनाथ पुलिस ठाणे के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक बाळकृष्ण वाघ से बात किया गया तो उन्होंने बताया कि शरीफ जो तडीपार होने के बावजुद  घर पर आता रहता है. इतना ही नही मंगलवार की दोपहर में नेहा खान नामक महिला को धमकी देते हुए मारपीट करने का मामला भी दर्ज किया गया है. रात में वो घर पर आया है ऐसी जानकारी स्थानिक नागरिको के द्वारा पुलिस को मिली थी उसी को पकड़ने पुलिस वाले गए थे तभी आयेशा ने उसको भगाने में मदत किया . आयेशा को किसी प्रकार की कोई मार पीट नही किया गया है उसके द्वारा लगाए गए आरोप निराधार है .अब सवाल यह है फिर वह महिला को चोट लगी केसे ?यह भी सवाल होता है कि क्या रात में बिना महिला पुलिसकर्मी के बावजूद किसी अकेली महिला से जेन्ट पुलिसकर्मी की पूछताछ जायज है क्या ? इन इन सवालों के चलते पुलिस शक के घेरे में आती नजर आ रही है

Please follow and like us:
error

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Facebook
Twitter
YouTube
Follow by Email