वेलनटाइन डे की शाम अमेरिकी स्कुल में फायरिंग,१ शिक्षक समेत १७ छात्रों की मौत.

अमरीका का तीसरा सबसे सुरक्षित समझा जाने वाला शहर फ्लोरीडा के नामचीन स्टोनमैन डग्लस हाई स्कूल में वेलनटाइन डे की शाम उसी विद्यालय के पूर्व छात्र द्वारा की गयी अंधाधुंध गोली बारी में एक शिक्षक समेत कुल १७ छात्रों की मौत होगई है स्थानीय पुलिस ने हमलावर छात्र को गिरफ्तार कर लिया है.छात्र को विद्यालय प्रबंधन ने अनुशासनहीनता के कारण कुछ दिन पूर्व ही विद्यालय से निकाला था. हमले में अन्य छात्रो के घायल होने की खबर है. .

स्थानीय प्रशासन ने पार्कलैंड इलाक़े के स्टोनमैन डग्लस हाई स्कूल में हुई गोलीबारी में एक टीचर समेत 17 छात्रों की मौत की पुष्टि की है. इस

अधिकारियों का कहना है कि एक बहुत बड़े इलाक़े में फ़ैले इस स्कूल कैंपस में तीन हज़ार से ज़्यादा छात्र पढ़ते हैंब्रोवार्ड काउंटी के शैरिफ़ ने ट्वीट के ज़रिए यह सूचना दी है कि पुलिस ने 19 साल के हमलावर को हिरासत में ले लिया है, जिसकी पहचान निकोलाउस क्रूज़ के तौर पर की गई है.निकोलाउस इसी स्कूल के छात्र रह चुके हैं और कुछ समय पहले ही उन्हें स्कूल से निकाला गया था.स्थानीय पुलिस ने बताया है कि हमले के वक़्त निकोलाउस ने एआर-15 राइफ़ल ले रखी थी और उनके पास ढेर सारे कारतूस थे.निकोलाउस ने स्कूल के दरवाज़े से गोलीबारी शुरू की और फिर स्कूल परिसर के भीतर चले गए

स्थानीय मीडिया से मिल रहीं ख़बरों के मुताबिक़, फ़ायरिंग शुरू करने से पहले हमलावर ने स्कूल का फ़ायर अलार्म बजाया, ताकि स्कूल में अफ़रातफ़री मच जाए.प्रत्यक्षदर्शी छात्रों ने बताया है कि हमलावर अपने मक़सद में क़ामयाब रहा. जैसे ही फ़ायर अलार्म बजा, छात्र बिल्डिंग से निकलकर बाहर आने लगे.

एक अन्य छात्र एन्थ ने ट्वीट किया कि अपनी आंखों पर मुझे भरोसा नहीं हो रहा. मैं कम से कम दस गन शॉट सुन चुका हूं. पुलिस भी कैंपस में आ चुकी है. हम प्रार्थना कर रहे हैं कि ये जल्द बंद होअमरीका की एक ग़ैर सरकारी संस्था की रिसर्च में ये बात सामने आई है कि स्कूल या उसके परिसर के इर्दगिर्द इस साल हुई ये 18वीं गोलीबारी की घटना है.

साल 2013 से अब तक अमरीका में 291 ऐसी दुर्घटनाएं दर्ज की गई हैं. जिसका औसत निकाला जाए तो एक दुर्घटना प्रति सप्ताह दर्ज की गई.

24 जनवरी 2017 को कैन्टकी शहर के एक स्कूल में हुई गोलीबारी में भी दो छात्रों की मौत हो गई थी और 17 छात्र घायल हुए थे.

(साभार बीबीसी न्यूज़ )

Please follow and like us:
error

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Facebook
Twitter
YouTube
Follow by Email