शेर का शिकार के चक्कर में शिकारी खुद शिकार हो गया

कल्याण : अपने ही पिता के साथ रह कर सीखी शिकारी ,शिकारी को शिकार करना महंगा पड गया . शेर का शिकार के चक्कर में शिकारी गिरफ्तार कर लिया गया.जब की पिता हरी वीर के साथ रह कर शिकारी तुकाराम हरी वीर अचूक निशाने बाज बन गया था जिसका की पिता को सरकारी इनाम मिला करता था ,लेकिन शिकारी बंद होजाने के बाद पिता ने भी शिकार करना बंद कर दिया .वही पिता के चले जाने के बाद शिकारी तुकाराम हरी वीर( ५२) अपने घर में गाय,भेस,बकरी पाल ली थी जिसका की दूध बेचकर और छोटी मोटी किसानी करके अपना घर परिवार चलाया करता था .जब उसके ही गाव में एक तेंदुआ ने आकर उसकी गाय,बैल बकरी को खा गया तो उसने गुस्से में आकर उठा ली अपने पिता की बंदूक और चल पड़ा उस तेंदुआ की शिकार करने के लिए .आखिर कार उसने उस तेंदुआ को मार गिराया ,और उसका चमड़ा निकाल कर उसे अपने दोस्त विशाल धनराज जो की रायगढ़, खालापुर का निवासी है और अनिल घोलप को जो की मीरारोड शांति नगर का निवासी है को फुटकर दाम यानि पाच हजार रूपये में बेच दी . ऐसा दत्तु राम हरी वीर ने स्वय बताया है इस मामले विशाल और उसका दोस्त सचिन महात्रे को क्राइम ब्रांच में शेर और तेंदुए की खाल बेचने आए दो लोगों को कल्याण, बदलापूर रोड स्थित समाधान होटल पास से पुलिस को मिली सूचना के अनुसार कल्याण क्राईम ब्रांच और वनविभाग अधिकारी में जाल बिछाकर गिरफ्तार कर लिया था इसमें से एक खाल पट्टेरी जाति के शेर की खाल बताई गई है जिसकी कीमत बहुत ज्यादा आंकी जाती है

मुंबई के पास कल्याण में विशाल धनराज व सचिन म्हात्रे ऐसे पकड़े गए व्यक्तियों के नाम हैं जिन्हें क्राइम ब्रांच यूनिट 3 के के वरिष्ठ पोलीस निरीक्षक संजू जॉन ,सहाय्यक पोलीस निरीक्षक संतोष शेवाले,सहाय्यक पोलीस उपनिरीक्षक ज्योतीराम सालूंखे ,पोलीस हवलदार दत्ताराम भोसले ,नरेश जोग्मार्गे ,अरविंद पवार ,अजित राजपूत ,पोलीस नाईक राजेंद्र घोलप ,सुरेश निकुळे ,सतीश पगारे ,हरिश्चंद्र बांगरा ,वनपाल मुरलीधर जामकर ,वनरक्षक संतोष रेवने ,वनजीव रक्षक /अभ्यासक सुहास पवार इस पूरी टीम ने मिलकर दोनों व्यक्तियों को गिरफ्तार कर लिया था पकडे गए दोनों अभियुक्तों ने इस शिकारी तुकाराम हरी वीर( ५२) का नाम पुलिस को बता दिया था. जिसके चलते क्राइम ब्रांच टीम ने तुकाराम हरी वीर को आम्बेवाड़ी ,पोस्ट वावरल तालुका खालापुर जिल्हा रायगढ़ से गिरफ्तार कर लिया है तुकाराम हरी वीर ने पास के गावं खोंड़ा जंगल से तेंदुआ का शिकार किया था.
क्राइम ब्रांच यूनिट 3 के के वरिष्ठ पोलीस निरीक्षक संजू जॉन ने बताया ,की जप्त की गयी शेर की खाल और तेंदुआ की खाल की किमत शून्य है,लिकं जादू टोना और अघोरी साधू,और खाल रखने के शोकियाओं ने इसकी किमात लाखो में बढ़ा रखी है,इसलिय जप्त की गई खाल को भी वे लोग १० लाख रूपये में बेचने आये थे लेकिन मुख्य आरोपी सहित सभी सलाखों के पीछे .आरोपियों से शेर तेंदुआ के साथ एक शिकार करने वाली बारूदी बंदूक भी पुलिस ने जप्त कर ली है

Please follow and like us:
error

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Facebook
Twitter
YouTube
Follow by Email