२७ गाँव में घर खरीदने वाले सावधान ! कभी भी मनपा कर सकती है आपको बेघर.

(राजेश सिन्हा )
कल्याण – डोम्बिवली मनपा से दशकों तक अलग रहने के बाद, मनपा में शामिल हुए २७ गाँवों में घर खरीदने की चाह रखने वाले नागरिकों के लिए बुरी खबर सामने आ रही है। इन २७ गाँवों में बनने वाली इमारतों को के डी एम सी के नगररचना विभाग की मंज़ूरी नहीं है। जिससे इन इमारतों पर कभी भी मनपा का हथौड़ा बरस सकता है।
मनपा के नगररचना विभाग के सूत्रों पर यदि यकीन किया जाए तो २७ गावों में बन रही गगन चुम्बी इमारतों के चटाई क्षेत्र को लेकर भी असमंजस की स्थिति बनी हुई है। मौजूदा समय में इन सत्ताईस गाँवों में जमकर इमारतों का निर्माण किया जा रहा है। इन इमारतों को जिलाधिकारी कार्यालय की मंज़ूरी मिलने का दावा भवननिर्माता कर रहे हैं। जबकि सच्चाई यह है कि मनपा में शामिल होने के बाद इन इमारतों को मनपा के नगररचना विभाग से मंज़ूरी लेना ज़रूरी है। बिना मनपा की मंज़ूरी के बन रहीं इन इमारतों को मनपा अवैध ही मानती है।

ज्ञात हो की इन २७ गावो में निलजे, कोल्हे, काटइ ,मानपाडा, नान्दिवली, सोनारपाडा, गोलवली, दावडी, पिसवली, अडवली,नान्दिवली,द्वारली, के साथ लगभग हर गाव में जमकर अवैध निर्माण हो रहे है.इस क्षेत्र में नए घर लेने के इच्छुक  घर लेने के पहले भवन निर्माता और दलालो के झांसे और अनेक बड़े बड़े प्रलोभन में आये बिना एक बार निर्माणाधीन गृह संकुल के कागजातों की पूरी तरह जांच करनी चाहिए. और बिना झिझके आवश्यक सभी कागजातों की मांग करनी चाहिए.इन भवन निर्माताओ ने अनेक निजी बैंक भी पकड़ रखे है.जिसके द्वारा अधूरे कागज़ पत्रों पर भी आसानी से गृह कर्ज मिल जाता है.घर लेने के इच्छुको को एक बार इन घरो के कागजात किसी राष्ट्रीय कृत बैंक में दिखाना चाहिए,और वहा से गृह कर्ज मिल सकता है क्या ये मालूमात निकालनी चाहिए. यहाँ से उन्हें भवन की वैधता की पूरी जानकारी मिल सकती है.इसके साथ किसी निजी वकील से इन कागजातों की जांच की जा सकती है

२७ गाँवों में मनपा के अधिकारी इन अवैध निर्माण को शह देकर अपनी जेबें भरने में लगे हैं। हर निर्माणकार्य से लाखों रूपये मनपा के अधिकारीगण वसूलते हैं। क्योकि भवन निर्माण के लिए आवश्यक पूरी कानूनी प्रक्रिया करके बहुत कम भवन निर्माता भवन निर्माण करते है.और मनपा प्रशासन का इन २७ गावो में अवैध निर्माण के प्रति शुरुवात से ही उदासीन और भ्रष्ट रवैया ने यहाँ के भवन निर्माताओ के हौसले बुलंद कर रखे है. मुम्बई में घर का सपना देखने वाले घर लेने के बारे में पूछताछ करने केलिय यही भवन निर्माता के पास जाते है तो उन्हें तरह तरह के प्रलोभन के साथ साथ उन्हें इन निर्माणों के अवैध होने की भी जानकारी दी जाती हैलेकिन उन्हें कहा जाता है की यहाँ के २७ गावो में मनपा अधिकारी सिर्फ अपना हिस्सा लेने आते है,कारवाई करने नही आते है.अगर यहाँ कारवाई होती तो यहाँ  हजारो इमारते कैसे खड़ी हो जाती ??

उल्लेखनीय है की ठाणे महानगर पालिका आयुक्त संजीव जयसवाल की तर्ज पर अगर कोई आयुक्त कल्याण डोम्बिवली मनपा में भी आ गया और जैसी कारवाई ठाणे के अवैध निर्माणों के विरुद्ध होरही है वैसी ही कारवाई यहाँ भी शुरू हो गई. तो कितने लोग वेघर हो जायेंगे इसका अंदाजा लगाया जा सकता है.

Please follow and like us:
error

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Facebook
Twitter
YouTube
Follow by Email