मुम्बई आसपास के पूर्वानुमान के अनुसार कल्याण मनपा की महासभा हंगामेदार ही रही,सिलसिले वार ब्यौरा

कल्याण डोंबिवली महानगरपालिका की मंगलवार की सभा हंगामेदार होने वाली है  इस का पूर्वानुमान मुंबई आसपास ने सोमवार को ही अपने पाठको को बता दिया था और आज मनपा महासभा में जो हंगामा हुआ वैसा हंगामा आज तक की महासभा में कभी भी नहीं होने की बात अनेक नगरसेवकों के साथ आम नागरिक भी कह रहे थे

आज की महासभा का सिलसिलेवार ब्यौरा –

१) महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने महासभा के समय पर ही मनपा मुख्यालय पर शुरुआत के पहले ही म न पा मुख्यालय में महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना का सताधारी चले जाओ के नारे के साथ उग्र मोर्चा का आयोजन किया गया था.जिसमे हजारो मनसे कार्यकर्ता उपस्थित थे,

 

२) मनपा महासभा में सत्ताधारी शिवसेना समर्थित निर्दलीय नगरसेवक कासिफ तनकी द्वारा किया गया हंगामा भी अभूतपूर्व था.वे अपने कपडो पर कीचड़ लगा कर मनपा महासभा में आये,इसके पहले उन्हें मनपा सुरक्षा रक्षक के साथ पुलिस बल ने भी सभा गृह में प्रवेश करने से रोका लेकिन अनेक जद्दो जहद के बाद और मनसे नेताओं के हस्तक्षेप के बाद उन्हें महासभा में प्रवेश करने दिया गया.

 

3) आज नव निर्वाचित महापौर विनीता विश्वनाथ राणे की पहली महासभा थी और पहली महासभा में ही महापौर राणे जोरदार हंगामे से स्वागत हुआ.

४) आज महासभा में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के आदेशानुसार कल्याण मनपा सभागृह नेता पद पर  श्रेयश समेल और गटनेता पद पर दशरथ घाड़ीगावकर के नामो की घोषणा मानपा सचिव ने सभागृह मे की.और उन्हें महापौर से सम्मानित करने के लिए बुलाया गया,लेकिन इसी दौरान नगरसेवक कासिफ तनकी खड़े हो कर चिल्लाने लगे देखो देखो एक तरफ कल्याण में खड्डो में गिरकर लोगो की मय्यत निकल रही है और यहाँ सत्ताधारी सत्कार करवा रहे है, हंगामे के कारण ही नवनिर्वाचित सभागृह नेता और  गटनेता सभागृह में उपस्थित होकर भी सम्मानित होने स्टेज पर नही गए.

५) महासभा शुरू होने का समय दोपहर २. ३० बजे का था लेकिन ३. १० महासभा शुरू नहीं हुई थी लेकिन समय से पहुची मनपा में भाजपा कोटे से नवनिर्वाचित उपमहापौर मनीषा भोईर जाकर महासभा के स्टेज के सामने जमीन पर बैठ गयी उनके देखा देखि पहले सभी भाजपा की महिला नगरसेवक और फिर पुरुष नगरसेवक भी अपने सिट की जगह जमीन पर बैठ गए.

६) नवनिर्वाचित उपमहापौर मनीषा भोईर के सभागृह में जमीन पर बैठे होने पर शिवसेना नगरसेवक उपमहापौर भोईर को पहले अपने पद से इस्तीफा देने की मांग जोरदार ढंग से उठाई,शिवसेना नगरसेवको के अनुसार सत्ता सुख भोगते हुए प्रशासन का विरोध गलत है.आप प्रशासन को कंट्रोल नही कर सकते तो आपको उपमहापौर पद पर बने रहने का हक नही है.

७) सबसे ज्यादा मामला गंभीर तब हो गया जब मनसे गटनेता प्रकाश भोईर ने महापौर के समक्ष स्थित राजदंड ही उठाकर भागने का प्रयास किया

८) आज सभागृह में महासभा की ओपचारिक घोषणा होने के पूर्व ही जोरदार हंगामा जारी था और और सभागृह में शान्ति वहाल नही होता देख मनपा सचिव ने हंगामे के दौरान ही राष्ट्रगीत वन्दे मातरम शुरू करदी.हंगामे के दौरान शुरू हुए राष्ट्र गीत से हंगामा ५ से ७ सेकेण्ड जारी रहा इसी तरह मनसे नेता प्रकाश भोईर द्वारा हंगामे के दौरान ही राजदंड उठा लेने पर मनपा सचिव को स्थित तनाव पूर्ण लगी और उन्होंने सभा समाप्ति की घोषणा किये बिना राष्ट्रगाण शुरू करदिया.इस दौरान भी मनपा सभागृह में १० – १५ सेकेण्ड तक हंगामा होता रहा.

९) सभा समाप्ति के बाद मनपा विरोधि द्ल नेता मन्दार हलवे ने पत्रकारों से बातचीत में सत्ताधारी दल शिवसेना और भाजपा द्वारा मुख्य मुद्दों पर चर्चा से भागने का आरोप लगाया उनके अनुसार आज मनपा सदन में मनपा परिसर के सडको के खड्डे में मर रहे नागरिक जैसे महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा होनी थी लेकिन इसी चर्चा से बचने के लिए पहले भाजपा ने हंगामा किया फिर शिवसेना की महापौर ने हंगामे का बहाना बनाकर सभा स्थगित करवा दी.

१०) वहि शिवसेना के नवनिर्वाचित गटनेता दशरथ घाड़ीगावकर ने महासभा के बाद पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा की आज की महासभा में हंगामा का कारण भाजपा नगरसेवको की भ्रष्ट्र निति है  गटनेता घाड़ीगावकर के अनुसार आज महासभा में भ्रष्ट मनपा अतिरिक्त आयुक्त संजय घरत के निलम्बन का प्रस्ताव पारित होना था.जो भाजपा नेता गण नहीं चाहते थे इसीलिए इन लोगो ने सभा शुरू होते ही हंगामा शुरू कर दिया.जिससे मजबूरन मनपा सचिव को सभा स्थगन का आदेश दिया गया.

Please follow and like us:
error

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Facebook
Twitter
YouTube
Follow by Email