फ़िल्म जगत का सदाबहार सितारा रवि किशन।17 जुलाई – जन्मदिन विशेष।

इतिहास कोई एक दिन में नही रचता बल्कि उसकी नींव काफी पहले पड़ गई होती है। देश की लगभग हर भाषा की फिल्मो में अभिनय कर चुके रवि किशन की गिनती देश के उन गिने चुने कलाकारों में होती है जिन्होंने काफी संघर्ष के बाद ना सिर्फ मंजिल पाई बल्कि देश के कोने कोने में उनकी भाषा मे अपनी आवाज बुलंद की । आज लाखों लोगों के दिल में बसनेवाले रवि किशन का जन्मदिन है ।  वे आज भोजपुरी फिल्मों के महानायक हैं. यही नहीं, हिंदी, दक्षिण भाषायी फिल्मों सहित अन्य भाषायी फिल्मों में भी छाये रहते हैं ।   इतिहास गवाह है कि हर सफलता की नींव काफी पहले रख दी जाती है. कुछ ऐसा ही है अभिनेता रवि किशन के साथ.   17 जुलाई को उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले के केराकत तहसील के छोटे से गांव वराई विसुई में पंडित श्याम नारायण शुक्ला व श्रीमती जड़ावती देवी के घर 48 साल पहले आज ही के दिन, यानी 17 जुलाई को एक किलकारी गूंजी जिनकी गूंज आज दुनिया के कोने-कोने में हर क्षेत्र में सुनायी दे रही है. 17 जुलाई को जन्मे बालक रविंद्र नाथ शुक्ला आज का रवि किशन है, जिनकी उपलब्धि को कुछ शब्दों में या कुछ पन्नों में समेटा नहीं जा सकता
प्रारंभिक अवस्था
     रवि किशन को अभिनय का शौक कब हुआ, उन्हें खुद याद नहीं है़  लेकिन रेडियो में गाने की आवाज इनके पैर को थिरकने पर मजबूर कर देती थी़  कहीं भी शादी हो, अगर बैंड की आवाज उनके कानों में गयी तो वो खुद को कंट्रोल नहीं कर पाते थे. यही वजह है जब नवरात्र की शुरुआत हुई तो उन्होंने पहली बार अभिनय की ओर कदम रखा़  गांव के रामलीला में उन्होंने माता सीता की भूमिका से अभिनय की शुरुआत की़  उनके पिताजी पंडित श्यामनारायण शुक्ला को यह कतई पसंद नही था कि उनके बेटे को लोग नचनिया-गवैया कहें, इसीलिए मार भी खानी पड़ी़  पर बालक रविंद्र के सपनों पर इसका कोई असर नहीं पड़ा़ ।
संघर्ष का दौर
मां ने अपने बब्बू ( घर का नाम )  रविंद्र के सपनों को पूरा करने का फैसला किया और कुछ पैसे दिये और इस तरह अपने सपनों को साकार करने के लिए रविंद्र नाथ शुक्ला मुंबई पहुंच गये़ । मां मुम्बा देवी की नगरी काफी इम्तिहान लेती है़  गांव का रविंद्र नाथ शुक्ला यहां आकर रवि किशन तो बन गया, पर मंजिल आसान नहीं थी़  संघर्ष के लिए पैसों की जरूरत थी, इसीलिए उन्होंने सुबह-सुबह पेपर बांटना शुरू कर दिया़ आज जिन अखबारों में उनके बड़े-बड़े फोटो छपते हैं, कभी उन्हीं अखबारों को सुबह-सुबह वह घर-घर पहुंचाया करते थे़  यही नहीं, पेपर बेचने के अलावा उन्होंने वीडियो कैसेट किराये पर देने का काम भी शुरू कर दिया़  इन सबके बीच बांद्रा में उन्होंने पढ़ाई भी जारी रखी । पुरानी मोटरसाइकल से वे अपना फोटो लेकर इस आफिस से उस ऑफिस भटकते रहते थे और जब पेट्रोल के पैसे नही रहते तो पैदल ही घूम घूम कर निर्माता निर्देशकों से मिलते रहते थे ।
रंग लायी किस्मत   
     कहते हैं परिश्रम कभी व्यर्थ नहीं जाता है़  रवि किशन की मेहनत रंग लायी और उन्हें काम मिलना शुरू हो गया़ ।  पर जिस नाम और पहचान की तलाश में वे मुंबर्इ आये थे, उसकी खोज जारी रही़  इस दौरान उनके जीवन में उनकी धर्मपत्नी प्रीति किशन का आगमन हुआ़  उनकी किस्मत से रवि किशन की मेहनत के गठजोड़ ने रवि किशन को लोकप्रियता देनी शुरू कर दी और जब उनकी बेटी रीवा उनके जीवन में आयी, तो काम और नाम दोनों में काफी इजाफा होना शुरू हुआ़ । kai हिंदी फिल्मों में काम के बाद भी रवि किशन को उतनी पहचान नही मिल पेज जिसकी तलाश में वे मुम्बई की गलियों में भटक भटक कर खुद का वजूद ढूंढते थे । दूरदर्शन के एक धारावाहिक हेलो इंस्पेक्टर से उन्होंने अपनी पहचान बनानी शुरू की लेकिन शायद भोजपुरी इंडस्ट्रीज को किसी ऐसे अभिनेता की तलाश थी जो उन्हें नवजीवन दे सके । और हुआ भी ऐसा ही ।
कई हिंदी फिल्मों का निर्माण कर चुके निर्देशक मोहनजी प्रसाद ने भोजपुरी फिल्म निर्माण करने का फैसला किया और रवि किशन को अपनी पहली फिल्म ‘सैयां हमार’ में बतौर हीरो लांच किया. इस फिल्म ने न सिर्फ बरसों से शांत पड़े भोजपुरी फिल्म जगत को जिंदा किया, बल्कि इसके साथ ही उदय हुआ भोजपुरी के नये सुपरस्टार रवि किशन का. इस फिल्म के बाद रवि किशन ने पीछे मुड़ कर नहीं देखा । आज वे 300 से भी अधिक भोजपुरी फिल्मों में अभिनय कर चुके हैं और देश दुनिया में भोजपुरी चेहरा बनकर उभरे हैं । इस दौरान उन्होंने कई टेलीविजन शो में भी नजर आए ।
आज का दौर
     आज रवि किशन फिल्म जगत के एकमात्र ऐसे अभिनेता हैं, जो एक साथ कई भाषा की फिल्मों में अभिनय कर रहे हैं. आज उनकी लोकप्रियता न सिर्फ भोजपुरी और हिंदी भाषी दर्शकों के बीच है, बल्कि दक्षिण भारत, बंगला , मराठी , गुजराती  दर्शकों में भी वे उसी तरह लोकप्रिय हैं और यही वजह है कि दुनिया के कोने-कोने में उनके लाखों-करोड़ों चाहने वाले हैं । तेलगु फ़िल्म जगत में तो उनके अभिनय का सिक्का चल रहा है । सौ से भी अधिक अवार्ड और सम्मान से नवाजे जा चुके रवि किशन अब अपनी माटी का कर्ज चुकाने के लिए तत्पर हैं और उनकी योजना अपने गृह प्रदेश उत्तर प्रदेश में एक विशाल फ़िल्म सिटी के निर्माण के प्रयास में लगे हैं । सरकार ने उनकी मांग पर अपनी सहमति भी दे दी और शायद उनके पचासवें जन्मदिन पर फ़िल्म सिटी का अस्तित्व भी सबके सामने होग
       उदय भगत
( लेखक रवि किशन के निजी प्रचारक हैं )
Please follow and like us:
error

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Facebook
Twitter
YouTube
Follow by Email