आर्थिक भगोड़ो के प्रत्यर्पण के लिए वैश्विक सहयोग आवश्यक हैःउपराष्ट्रपति

उपराष्ट्रपति एम वेकैंया नायडू ने संयुक्त राष्ट्र और अऩ्य बहुराष्ट्रीय संगठनों से मांग की हैं कि वे आर्थिक भगोड़ो के प्रत्यर्पण के लिए कार्यनीति तय करें। वे आज नई दिल्ली में सीआईटीआई हीरक जयंती समारोह के सिलसिले में आयोजित सीआईटीआई ग्लोबल टेक्सटाइल्स सम्मेलन 2018 को संबोधित कर रहे थे। केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी और अन्य गणमान्य व्यक्ति इस अवसर पर उपस्थित थे। उपराष्ट्रपति ने कहा कि उनकी यूरोप, लेटिन अमेरिका और अफ्रीका की यात्राओं के दौरान विश्व के नेताओं ने भारत की प्रगति की सराहना की और कहा कि भारत उल्लेखनीय विकास कर रहा हैं। उन्होंने कहा कि भारत की विकास गाथा में विश्व समुदाय गहरी रूचि ले रहा है।

यह भी पढ़ें :- मालदीव के विदेश मंत्री ने राष्‍ट्रपति से मुलाकात की

नायडू ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र और विश्व समुदाय को ऐसा समझौता करने की दिशा में अग्रणी भूमिका अवश्य निभानी चाहिए, जिससे बैंक खातों के बारे में जानकारी का आदान-प्रदान संभव हो सके। उपराष्ट्रपति ने कहा कि वैश्विक प्रतिस्पर्धा का परिदृश्य बनाए रखने के लिए जवाबदेही और पारदर्शिता, व्यापार में ईमानदारी और उत्पादों में मानक अपनाना अत्यंत आवश्यक है। उन्होंने कहा कि भारत में कच्चा माल, प्रशिक्षित कामगार, विनिर्माण क्षमता, व्यापक कताई, बुनाई, प्रोसेंसिग और परिधान विनिर्माण जैसी सुविधाओं को देखते हुए देश को विश्व प्रतिस्पर्धा में निश्चित रूप से लाभ होगा। नायडू ने कौशल विकास, उन्नयन और डिजिटल टेक्नोलॉजी तथा अनुकूल विनिर्माण प्रणालियां अपनाने की आवश्यकता पर बल दिया ताकि वैश्विक प्रतिस्पर्धा में अग्रणी स्थान हासिल किया जा सके।

यह भी पढ़ें :- राष्‍ट्रपति 29 नवम्‍बर को 118 हॉलिकॉप्‍टर यूनिट को मानक चिन्‍ह और एयर डिफेंस कॉलेज को ध्‍वज प्रदान करेंगे

उपराष्ट्रपति ने कहा कि भारत को परम्परागत कारीगरों और आधुनिक पद्धतियों का संयुक्त रूप से लाभ प्राप्त हैं। उन्होंने कहा कि हमे न केवल विश्व को व्यापक विविधता प्रदान करनी है, बल्कि टेक्सटाइल्स विनिर्माण और निर्यात के क्षेत्र में अग्रणी भूमिका भी निभानी है। उपराष्ट्रपति ने टेक्सटाइल्स उद्योग को अपेक्षित कौशल, निवेश और बाजार उपलब्ध कराते हुए इस क्षेत्र के आधुनिकीकरण की आवश्यकता पर बल दिया ताकि भारत वस्त्र क्षेत्र में अपना प्राचीन गौरव हासिल कर सकें। उन्होंने कहा कि आज विश्व चौथी औद्योगिक क्रांति की ओर बढ़ रहा है जो साइबर भौतिक प्रणालियों पर आधारित है। उन्होंने कहा कि ऐसे में भारतीय वस्त्र उद्योग को 4.0 में अवश्य अग्रणी भूमिका निभानी चाहिए क्योंकि भारत को आईटी क्षेत्र में अनेक लाभ प्राप्त हैं। उपराष्ट्रपति ने कोटक कमोडिटीज के सीएमडी श्री सुरेश कोटक को लाइफ टाइम उपलब्धि पुरस्कार से सम्मानित किया और टेक्सटाइल्स क्षेत्र की 5 अन्य विभूतियों को उत्कृष्टता के लिए पुरस्कारों से सम्मानित किया।

Please follow and like us:
error

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Facebook
Twitter
YouTube
Follow by Email