उल्हासनगर में सिन्धी जागरूक मंच को बड़ी सफलता,बड़ी संख्या में धर्मांतरितो की घर वापसी

उल्हासनगर के बड़ी संख्या में सिन्धी समाज के लोग इसाई धर्म स्वीकार कर रहे है और ये धर्मान्तरित हुए लोग, इसाई धर्म के लोगो द्वारा चर्च में जलाए जाने वाले मोमबत्ती की परम्परा हिन्दू मंदिरों में भी शुरू कर दी थी इसी के विरुद्ध सिन्धी समाज में जागरूकता फैलाने के लिए उल्हासनगर के सिन्धी समाज के कुछ प्रमुख लोगो द्वारा सिन्धी जागरूक मंच की स्थापना की गयी है जिसमे सिन्धी समाज के लोगो को अपने धर्म में बंधे रहने के साथ मंदिरों में मोमबत्ती की जगह घी के दीपक जलाने की सख्त हिदायत दी जाने लगी है.

ज्ञात हो की पैसे के साथ अनेक अन्य तरह के प्रलोभन दे कर हजारो सिन्धी परिवार का धर्म परिवर्तन करवाया गया है ये लोग उल्हासनगर के हिन्दू मंदिरों में जाकर भी दिए की जगह मोमबत्ती ही जलाते है इसी के विरुद्ध संत भाई लिलाराम,उल्हासनगर मनपा सभागृह नेता जमनादास पुरस्वानी, नगरसेवक मनोज लासी, पूर्व नगरसेवक होशियारसिंग लबाना, सोनू विषणानी, शंकर नागरानी, कपिल ताराचंदानी, प्रकाश तलरेजा के साथ बड़ी संख्या में सिन्धी समाज के लोगो ने आज रविवार को यहाँ के प्रसिद्ध झुलेलाल मंदिर में एक पूजा का आयोजन किया था.और इस पूजा में उपस्थित श्रधालुओ को मंदिर में मोमबत्ती की जगह घी के दीपक जलाने की सख्त हिदायत दी गयी थी.

सिन्धी जागरूक मंच द्वारा आयोजित इस आयोजन को बड़ी सफलता हासिल हुई और हजारो की संख्या में लोग उपस्थित हुए और इसमें ना सिर्फ धर्मान्तरित हुए लोग भी शामिल हुए बल्कि उनलोगों ने मंदिर में पूरी हिन्दू रीती रिवाज से पूजा अर्चना कर घर वापसी की.इन लोगो ने भी अपने साथ लाये घी के दिए अराधना के दौरान मंदिर में जलाए.धर्मांतरण के कट्टर विरोधी शिवसेना के उल्हासनगर शहर प्रमुख राजेन्द्र चौधरी ने भी इस आयोजन में आयोजको का हर संभव मदद किया और आगे भी पूरा समर्थन देने का वादा स्थानीय कार्यकर्ताओ से किया है.

Please follow and like us:
error

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Facebook
Twitter
YouTube
Follow by Email