राहुल गाँधी को मुनाफ़ा और टर्नओवर की समझ नहीं.उनके सलाहकार भी नासमझ – अमित शाह

( महेश शर्मा )

राहुल गाँधी को उनके सलाहकार किसी भी मुद्दे की बुद्धिमतता पूर्वक जानकारी नहीं देते है और उन्हें भी टर्नओवर और मुनाफे में कोई फर्क की समझ नहीं है. इसीलिए वे पिछले दिनों मेरे बेटे जय शाह पर एक ही साल में ८५ करोड़ मुनाफ़ा कमाने का आरोप लगाते घूम रहे थे.ये बाते भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने प्रसिद्ध टीवी न्यूज़ चैनल इंडिया टीवी के वरिष्ठ पत्रकार रजत शर्मा के सवालों के जबाव देते हुए कही.

वरिष्ठ पत्रकार रजत शर्मा ने अमित शाह से उनके बेटे जय शाह पर पिछले दिनों कांग्रेसी नेता राहुल गांधी द्वारा लगाये गए आरोपों पर अपना पक्ष रखने को कहा था. इसपर भाजपा नेता शाह ने सीधे राहुल गांधी को चुनौती देते हुए कहा की हम पर एक वेवसाईट ने गलत आरोप लगा कर खबर चलाई हमने इस वेवसाईट के विरुद्ध १०० करोड़ का मानहानि का मामला दर्ज किया है.और जो भी सचाई होगी सामने आएगी,लेकिन आजतक गांधी परिवार पर कितने भ्रष्टाचार के आरोप लगे लेकिन कभी राहुल गांधी परिवार ने आरोप झूठे है ये साबित करने या आरोप लगाने वाले पर कभी मानहानि का दावा दायर करने की हिम्मत क्यों नहीं जुटाई,क्योकि आरोप लगाने वालो की बात में सच्चाई थी.और मानहानि का मामला दर्ज कर राहुल अपनी फजीहत नहीं करवाना चाहते है.हमने कोई गलत काम नहीं किया और हमारे परिवार को योजनाबध ढंग से बदनाम करने की साजिश रची गयी,तो इसकी सच्चाई जनता के सामने लाने के लिए हमने वेवसाईट पर १०० करोड़ का मानहानि का दावा किया है.

गुजरात चुनाव पर आधारित इस कार्यक्रम में भाजपा अध्यक्ष शाह से रजत शर्मा ने राहुल गांधी के सरदार वल्लभ भाई पटेल के निर्माणाधिन पुतले पर मेड इन चाइना लिखने के व्यंग पर भी सवाल पूछा.इस पर बोलते हुए शाह ने राहुल को विदेशी शब्द नहीं बोलने की हिदायत दी. इसके बाद उन्होंने कांग्रेसीओ द्वारा सरदार पटेल को प्रधानमंत्री नहीं बनने देने, उनके शव यात्रा में कोई कांग्रेसियों के नहीं शामिल होने,कांग्रसी सरकार के दौरान सांसद में उनकी तस्वीर नही लगने देने जैसी बाते याद दिलाई,भाजपाई शाह के अनुसार सरदार पटेल हर भारतीयों के साथ हर गुजरात वासियों के लिए गोरवमय व्यक्तित्व रहे है.

उन्होंने हार्दिक पटेल के पटेल आन्दोलन पर भी अपने सरकार की मज़बूरी व्यक्त करते हुए कहा की इसमें उच्चतम न्यायलय का आदेश है. की राज्य सरकार को किसी भी क्षेत्र में ५० प्रतिशत से ज्यादा आरक्षण हम नहीं दे सकते.और ५० प्रतिशत आरक्षण पहले निर्धारित हो चुका है.उन्होंने दलित समाज पर गुजरात में लगातार होरहे हमले पर सफाई देते हुए कहा की वर्ष १९९० के पहले कांग्रेसी शासन के दौरान गुजरात की हालत कैसी थी.दलितों को गाव छोड़कर भागना पड़ता था. आज हर घटना पर कड़ी कारवाई हो रही है. इसके साथ उन्होंने कहा की देश भर के राज्यों में गुजरात में सवसे कम घटना दलितों पर अत्याचार की घटित होती है

 

Please follow and like us:
error

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Facebook
Twitter
YouTube
Follow by Email